भारतीय ट्रेनों से चोरी हुए लाखों के तौलिया और चादरें, देखें बड़ा खुलासा

0
30

दिल्ली- सरकार भारतीय रेलवे में सुधार के लाख दावे कर दे लेकिन जनता है कि सुधरने का नाम नहीं लेती। रेलवे के सामान को यात्रियों ने अपना मान लिया है। यात्रा के दौरान मिलने वाली चीजों को लोग अपने घर ले जा रहे हैं। ट्रेनों से चोरी हुए सामान के आंकड़े बेहद चौंकाने वाले हैं। पिछले वर्ष लंबी दूरी की ट्रेनों से 1.95 लाख तौलिये, 81,736 चादरें, 55,573 तकियों के खोल, 5,038 तकिये और 7,043 कंबल चोरी किए गए। इसके अलावा 200 टॉयलेट मग, 1000 नल और 300 से ज्यादा फ्लश पाइप भी चोरी हुए।

ट्रेन से चोरी हुए तकिया-चादर जैसी चीजों का नुकसान कोच अटेंडेंट को उठाना पड़ता है वहीं अगर बाथरूम से कोई चीज चोरी होती है तो उसका नुकसान भारतीय रेलवे को ही उठाना पड़ेगा। ट्रेन में मिलने वाली बेडशीट की कीमत 132 रुपए होती है, वहीं तौलिए की कीमत 22 रुपए और तकिया 25 रुपए की होती है।बताया जा रहा है कि इन सभी चीजों की  कीमत 62 लाख रुपये है। आंकड़े इतने ज्यादा हैं कि आप जानकर चौंक जाएंगे।

भारतीय रेलवे को बीते तीन साल में 4 हजार करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा है आपको बता दें कि इस तरह की हरकतों को रोकने के लिए कई ट्रेनों में सैंसर टैप और सीसीटीवी की सुविधाए लगाई गई हैं। लेकिन यह सब एक यात्रा तक भी पूरी नहीं कर पाता। रेलवे इन सुविधाओं को सस्ते विकल्पों से बदल देता है। पश्चिमी रेलवे के पीआरओ रविंदर सिंह ने इस प्रकार की घटनाओं को शर्मनाक करार दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here